छत्तीसगढ़

पीईटी व पीपीएचटी की प्रवेश परीक्षा, परीक्षार्थियों की सहूलियत का रखा ध्यान

दो पालियों में हुई परीक्षा, प्रदेश भर में 37485 छात्र शामिल हुए

रायपुर। प्री इंजीनियरिंग टेस्ट (पीईटी) और प्री-फार्मेसी टेस्ट (पीपीएचटी) प्रदेश भर में गुरुवार को आयोजित की गई। छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) की ओर से हो रही इन परीक्षाओं के लिए प्रदेश के जिलों में अलग-अलग केंद्र बनाए गए हैं। दो पालियों में हो रही इन परीक्षाओं में सुबह 9 बजे से पीईटी और दोपहर 2 बजे से पीपीएचटी की परीक्षा हुई। इन दोनों परीक्षाओं में कुल 37485 परीक्षार्थी प्रदेश में बैठे। इनमें पीईटी में 18947 छात्र और पीपीएचटी में 18538 छात्र शामिल हुए।
प्री-इंजीनियरिंग टेस्ट और प्री-फार्मेसी टेस्ट में शामिल होने वाले परीक्षार्थी इस बार 12वीं कक्षा की परीक्षा का फोटोयुक्त प्रवेश पत्र या स्कूल से मिले फोटो लगे आई कार्ड का उपयोग आईडी प्रूफ के रूप में देखकर परीक्षा हॉल में प्रवेश दिया गया। यह व्यवस्था उनके पास ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक का खाता और पैन कार्ड आदि नहीं होने की वजह से किया गया। परीक्षा में शामिल होने के लिए उन्हें पूरी आस्तीन वाली कमीज की भी जांच के बाद जाने दिया गया।
परीक्षा के दौरान छात्र अपने साथ ब्लू और ब्लैक इंक वाले डॉट पेन, पेंसिल और रबर ले जाने दिया गया।
पीईटी पहली पाली में सुबह 9 से 12.15 तक और पीपीएचटी दूसरी पाली में दोपहर 2 से 5.15 बजे तक हुई। परीक्षा में शामिल होने वाले सभी परीक्षार्थियों को जारी प्रवेश पत्र में कहा गया है कि वे परीक्षा केंद्र में परीक्षा से एक घंटे पहले उपस्थित हों, ताकि जांच आदि की प्रक्रिया में किसी तरह की दिक्कतें न हो।
चिप्स के सर्वर में खराबी के चलते स्थगित हो गई थी परीक्षा
पीईटी और पीपीएचटी की 2 मई को होने वाली परीक्षा कुछ घंटे पहले निरस्त कर दी गई थी। व्यापमं ने प्रवेशपत्र नहीं निकलने की वजह से परीक्षा रद्द करने की घोषणा की थी। अफसरों ने बताया कि चिप्स के सर्वर में तकनीकी खराबी आने की वजह से छात्र प्रवेशपत्र डाउनलोड नहीं कर पा रहे थे। इसलिए परीक्षा निरस्त करनी पड़ी। 30 अप्रैल की रात को सिस्टम में तकनीकी खराबी आई। इसलिए कई परीक्षार्थी प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीं कर पाए थे।

Tags
Show More

Related Articles

Close