अन्तर्राष्ट्रीय

क्लिंटन दंपती और ओबामा के घर पर डाक से भेजा गया बम, मामले की जांच शुरू

वाशिंगटन/न्यूयार्क। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को संदिग्ध पैकेटों के माध्यम से बम भेजने का मामला प्रकाश में आया है। यह जानकारी बुधवार को अमेरिका की सीक्रेट सर्विस ने दी। एक टीवी चैनल के मुताबिक राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भी इस संबंध में जानकारी दी गई है।
इसी सप्ताह डेमोक्रेटिक पार्टी के मुख्य दानकर्ता और अरबपति जार्ज सोरोस के घर भी इसी तरह का संदिग्ध पैकेट भेजा गया था। अब जांच एजेंसियां तीनों जगह भेजे गए पैकेटों के तार जोड़ने की कोशिश में लग गई हैं।
बयान में कहा गया कि नियमित डाक जांच प्रक्रिया के दौरान इन पैकेटों की तत्काल संभावित विस्फोटक उपकरण के रूप में पहचान कर ली गई। ये पैकेट ओबामा या हिलेरी में से किसी ने नहीं लिए और न ही ऐसा कोई खतरा था कि ये पैकेट सीधे उन तक पहुंच पाते।
जांच एजेंसी ने बताया कि ओबामा को भेजा गया पैकेट जहां बुधवार सुबह वाशिंगटन डीसी में पकड़ा गया। जबकि क्लिंटन दंपती को भेजा गया पैकेट मंगलवार को पकड़ गया था। इन संदिग्ध पैकेटों को पकड़ने के बाद सीक्रेट सर्विस ने मामले की आपराधिक जांच शुरू कर दी है।
अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी (एफबीआइ) ने न्यूयार्क के उपनगरीय इलाके चैपक्का में पूर्व प्रथम महिला हिलेरी क्लिंटन को भेजे गए पैकेट में विस्फोटक की बात स्वीकार की है। बता दें कि वर्ष 2010 में राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के पद छोड़ने के बाद क्लिंटन दंपती यहां से 48 किमी दूर चैपक्का में रहने लगे थे।
हम ओबामा, क्लिंटन और दूसरे लोगों पर हमलों के प्रयासों की कड़ी निंदा करते हैं। जो कोई भी इनके लिए जिम्मेदार होगा, उसे कानून के अनुसार सजा दी जाएगी। अमेरिका की सीक्रेट सर्विस और दूसरी जांच एजेंसियां इसकी जांच कर रही हैं।
-सराह सैंडर्स, प्रेस सेक्रेटरी, व्हाइट हाउस

Show More

Related Articles

Close